भारत में हाल ही के प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने एकरूप (इ रूपी) को लांच किया है यह ऑनलाइन दुनियां का डिजिटल पेमेंट सिस्टम के क्षेत्र में भारत सरकार का बहुत बड़ा कदम माना जा रहा है। चलिए आज हम इस टॉपिक पर आज हम जानते हैं की e-Rupi क्या है? e-Rupi के क्या फायदे हैं? और e-Rupi App से इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है।

e-Rupi एक ऐसा Digital Payment system है जिसके माध्यम से E-voucher बनाकर caseless और contact less पैसे transfer किया जाता हैं। इसी सबसे बड़ी खूबी यह है की जिस काम के लिए E-voucher से पैसे भेजे जायेंगे वाउचर को उसी काम में उसका इस्तेमाल किया जा सकेगा। जैसे मैं आप को डिनर करने के लिए E-voucher सेंड किया और आप उसे किसी होटल में जाकर खाना खा रहे हैं आप वहीं पर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। इस सुविधा को UPI platforms के साथ जोड़ दिया जायेगा। 



 जब भारत में प्रधानमंत्री मोदी ने 2016 में नोटबंदी के दौरान भ्रष्टाचार को कम करने के लिए Digital transfer पर अधिक ही जोर दिया था और इसको आसान और सरल बनाने के लिए npci ने UPI system को लाया। जिसके इस्तेमाल से हम आज कही भी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं और कहीं भी tranfer भी और कहीं से भी आ भी सकता है। इसी चैन (कड़ी) को अब e-Rupi को भी जोड़ दिया गया है जिससे cashless money transfer को और भी आसान और सुरक्षित हो जायेगा। 

eRupi क्या है?

eRupi -  full form (Electronic Rupee)

Unified Payment Interface है यह डिजिटल तरीके से पैसे लेन-देन करने का एक ऐसा सिस्टम है जिसमे वाउचर की मदद से किसी को भी पैसे भेजे जा सकते हैं।

शुरुआत में यह एक प्रीपेड वाउचर की तरह में होगा और जितने पैसे आप भुगतान करना चाहते हैं उतने पैसे उसमे डालने पड़ेंगे।



पेमेंट प्राप्त करने वाले व्यक्ति की पहचान

उसके खाते से जुड़े मोबाइल नंबर से होगी और वह वाउचर किसी निश्चित सामान को खरीदने के लिए किसी निश्चित दूकान या संस्थान पर ही उपयोग कर पायेगा।

उदाहरण के लिए यदि सरकार किसी किसान को फ़र्टिलाइज़र खरीदने के लिए वाउचर देती है तो किसान उस वाउचर का उपयोग केवल फर्टिलाइजर खरीदने के लिए कर सकता है और उसे उपयोग करने के लिए किसी फर्टिलाइजर की दुकान पर जाना पड़ेगा किसी अन्य जगह पर वह वाउचर काम नहीं आएगा

इस सिस्टम को NPCI द्वारा BHIM UPI प्लेटफॉर्म पर डेवलप किया गया है और इसमें बैंकों को शामिल किया गया है जो इन वाउचर्स को जारी करने का काम करेंगी।

2 अगस्त 2021 को PM नरेन्द्र मोदी ने eRupi को लांच किया है और उन्होंने पूरे देशभर को विडियो के माध्यम से इस बात की जानकारी दी है। आप निचे विडियो देख सकते हैं।

eRupi क्यों जरूरी है?

उदाहरण से समझिए

उदाहरण के लिए सरकार यदि किसी व्यक्ति । की मदद करना चाहती है उसे इलाज, भोजन या किसी विशेष काम के लिए पैसे देना चाहती है तो इसके लिए उसके पास दो विकल्प हैं या तो वह सुविधा उस लाभार्थी तक पहुंचाया जाए या उसके बदले में उसे पैसे दे दिए जाए।

पहले लोगों तक सीधे पैसे भेजने के लिए बैंक अकाउंट का उपयोग करती थी और सीधे लाभार्थी के अकाउंट में पैसे डाल दिए जाते थे। लेकिन कई बार लाभार्थी उस पैसे का उस काम के लिए उपयोग नहीं करता था जिसके लिए उसे पैसे मिले हुए है।

कई बार सरकारी कर्मचारियों को किसी काम के लिए पैसे दिए जाते थे लेकिन उस पैसे का दुरुपयोग हो जाता था या उस पैसे को कहीं और खर्च कर दिया जाता था।

इस समस्या से निपटने के लिए इस ईरुपी पेमेंट सिस्टम को लाया गया है इसका उपयोग केवल सरकार ही नहीं बल्कि निजी संस्थान भी कर सकते हैं।

eRupi कैसे काम करता है?

यदि सरकार या कोई निजी कंपनी अपने कर्मचारियों या फिर किसी को भी पैसे देना चाहती है या कोई भी लेनदेन करना चाहती है तो उसे eRupi Payment System का उपयोग कर एक voucher generate करना पड़ेगा।

लेनदेन की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार होगी:


  1.  सबसे पहले बेनेफिशरी के नाम और मोबाइल नंबर का उपयोग कर वाउचर जनरेट किया जाएगा।
  2. वाउचर की जानकारी 3 पार्टी को होगी जिसमें NPCI, payment करने वाला और पेमेंट रिसीव करने वाला शामिल होगा।
  3.  उस वाउचर को बेनेफिशरी के मोबाइल नंबर पर QR code या एसएमएस कोड के माध्यम से भेजा जाएगा। 
  4. बेनेफिशरी उस QR code को संबंधित संस्थान में ले जाकर कोई निश्चित सामान खरीद सकता है या किसी सेवा का लाभ उठा सकता है। 
  5. संबंधित संस्थान उसकी कोड को स्कैन कर पैसे प्राप्त कर सकता है।
  6. सबसे अच्छी बात यह है कि बेनेफिशरी को यह सुविधा का लाभ उठाने के लिए इंटरनेट कनेक्शन की जरूरत नहीं होगी ना ही उसे मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग, यूपीआई या क्रेडिट कार्ड या किसी भी पेमेंट एप्स की जरूरत होगी।
  7. अगर वाउचर को तय समय सीमा के अंदर उपयोग नहीं किया जाता है तो वाउचर बनाने वाले व्यक्ति को वह पैसे वापस मिल जाएंगे।

eRupee App डाउनलोड कैसे करें?


ईरुपी डिजिटल पेमेंट सर्विस का उपयोग करने के लिए आपको कोई भी अलग से ऐपडाउनलोड करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यदि आप वाउचर रिसीव कर रहे हैं तो उसे रिडीम करने के लिए आपको किसी भी ऐप की जरूरत नहीं पड़ेगी यहां तक कि आप बिना इंटरनेट के भी उसे उपयोग कर पाएंगे। यदि आप वाउचर जनरेट करना चाहते हैं तो आप यूपीआई प्लेटफार्म के जरिए इसका उपयोग कर पाएंगे।

जैसा कि हमने पहले ही आपको बताया कि

जैसा कि हमने पहले ही आपको बताया कि यह सेवा यूपीआई के साथ जोड़ा जाएगा और यूपीआई के लिए आपके पास पहले से ही कोई न कोई ऐप (जैसे: BHIM, Google Pay, PaTM, PhonePe आदि) जरूर होगा और आप उन्हीं ऐप का उपयोग कर सेवा का लाभ उठा सकते हैं।

हालांकि यह अभी शुरुआती चरण में है जिसका उपयोग कभी फिलहाल सरकार अपने काम का जो के लिए कर रही है लेकिन बाद में इसे प्राइवेट कंपनियां और आम आदमी भी उपयोग कर पाएंगे।

eRupi संबंधित कुछ सवाल जवाब

eRupi को किसने बनाया है?

ईरुपी के डिजिटल पेमेंट सिस्टम को NPCI (National Payment Corporation of India) के द्वारा बनाया गया है।

eRupi App Download कैसे करें?


eRupi के लिए कोई अलग से पेमेंट ऐप नहीं बनाया गया है इसे पहले से मौजूद यूपीआई सर्विस के साथ ही जोड़ा जाएगा।

इस आर्टिकल में हमने भारत सरकार द्वारा जारी eRupi Digital Payment System के बारे में विस्तार से जानकारी दी है और हमें उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। भारत सरकार द्वारा कैशलेस भारत बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है और यूपीआई की तरह इस पेमेंट सिस्टम के सफल होने की उम्मीद की जा रही है। इस लेख के माध्यम से eRupi क्या है? कैसे उपयोग किया जाता है इसकी जानकारी आपको मिल गई होगी।

Post a Comment

أحدث أقدم